Blog Post

Hindi Kavita

अफसाना ए शख्स । Hindi Kavita

कली सी खिलती बचपन कि मासूमियत छोड़,
आरजुओ को खफा कर !
निकल पड़ा वो शख्स उन राहों पर,
जिसके अंजाम से वो अनजाना था !!

इल्म कि उम्र में उसमें गुजर बसर कि सोच आ गई,
जो नसीब में एक वक्त कि रोटी तो ले आई पर,
आफताब कि धधकती हसरतों कि तेज लपटें,
न मिटा सकी भूख, न लौटा सकी सुकून कि नींद उसकी !

कदमों के निशानों सा छूटता गया अजीजो का साथ,
बढ़ते ताने गैरों के उसे, कांटे से चुभने लगे!
बस फकत खुदा ही मरहम था उसका ,
इबादत में जिसके हर जख्म भरने लगे थे !

कदम बढ़े नये आलम कि ओर , बन बैठा सिरमौर कुटुंब का
हमसफर किसी के जिदंगी का तो साया किसी के बचपन का !
पर कभी लबों से बयां न कर सका कहराता दर्द अपना ,
बस अकेले में छलका के अश्क, मुस्कान बिखेरता चला !!

Renu Hindi Kavita
Renu

आप इन्हें भी पड़ सकते है

प्रकृति से जुड़े आदिवासीयों के खानपान

मोहरी बाजा के बिना नहीं होता कोई शुभ काम

बस्तर के धाकड़ समाज में ऐसी निभाई जाती है शादी कि रश्मे

200 साल पुराने मृतक स्तंभ


“short poems in english”

“Keyword”
“hindi kavita on life”
“hindi kavita kosh”
“hindi kavita on nature”
“hindi kavita sangrah”
“hindi kavita for class 1”
“hindi kavita for hindi diwas”
“hindi kavita on love”
“hindi kavita motivational”
“hindi kavita on maa”
“best hindi kavita”
“maa par hindi kavita”
“hindi diwas par hindi kavita”
“hasya hindi kavita”
“best short hindi kavita”
“hindi diwas par kavita”
“hindi mein kavita”
“hindi ki kavita”
“hindi diwas kavita”
“hindi bhasha par kavita”
“hindi hasya kavita”
“hindi hasya kavita for students”
“hindi par kavita”
“hindi diwas ki kavita”
“hindi desh bhakti kavita”


“collection of poems is called”

#Bastar #Jagdalpur #Dhamtari #Raigadh #Durg #Bilaspur

Subscribe To Get Update!

Popular Category

Popular Post

Scroll to Top
Scroll to Top